Hello Reader
Books in your Cart

Rajan Iqbal digest 1: Rajan Iqbal ki Vapsi + Maut ka Jadoo

Rajan Iqbal digest 1: Rajan Iqbal ki Vapsi + Maut ka Jadoo
-20 % Out Of Stock

Advertisement

Subscribe to us!

Rajan Iqbal digest 1: Rajan Iqbal ki Vapsi + Maut ka Jadoo
Currently Unavailable
This Product is Out of Stock. We will update for the availability.
No. Of Views: 871
₹120
₹150
Reward Points: 400
राजन इक़बाल की वापसी (गोलियों का बाज़ार) राजन-इकबाल, आपके देसी हीरो, एक बार फिर आ गए हैं, एक नए अवतार में। अपने पहले मिशन पर राजन, इकबाल, सलमा और शोभा पहुँचते हैं हिमालय में बसे गढ़ नाम के एक शहर में, जहाँ एक बेहद खतरनाक ड्रग माफिया का राज़ है। वे माफिया को नेस्तनाबूत करने में तो सफल हो जाते हैं, पर इस टकराव में सलमा गायब हो जाती है, और काफी समय के बाद उन्हें उसकी लाश मिलती है। क्या इक़बाल सलमा की मौत से ऊबर पायेगा? मौत का जादू इक़बाल और नफीस सोहनपुर नाम के एक छोटे-से गाँव पहुँचते हैं, नफीस के बीमार चचा लियाकत खान के हालचाल लेने। जब वे वहाँ पहुँचते हैं, तो उनके भूत सरीके नौकर ड्रैकुला से पता चलता है कि वो किसी काम से बाहर गए हुए हैं। इकबाल और नफीस उनके महल में रुककर उनका इंतज़ार करने लगते हैं। फिर शुरू होती है काला जादू, तंत्र-मन्त्र और रहस्य से भरी एक अति रोचक कहानी, जिसमे कि इकबाल और नफीस की सद..
Pustak Details
Sold BySooraj Pocket Books
AuthorShubhanand
Edition1st Edition
FormatPaperback
Pages100 Pages
Publication Year2012
CategoryOther (Books)

Reviews

Write a review

Note: HTML is not translated!
Bad Good
Captcha

Book Description

राजन इक़बाल की वापसी (गोलियों का बाज़ार) राजन-इकबाल, आपके देसी हीरो, एक बार फिर आ गए हैं, एक नए अवतार में। अपने पहले मिशन पर राजन, इकबाल, सलमा और शोभा पहुँचते हैं हिमालय में बसे गढ़ नाम के एक शहर में, जहाँ एक बेहद खतरनाक ड्रग माफिया का राज़ है। वे माफिया को नेस्तनाबूत करने में तो सफल हो जाते हैं, पर इस टकराव में सलमा गायब हो जाती है, और काफी समय के बाद उन्हें उसकी लाश मिलती है। क्या इक़बाल सलमा की मौत से ऊबर पायेगा? मौत का जादू इक़बाल और नफीस सोहनपुर नाम के एक छोटे-से गाँव पहुँचते हैं, नफीस के बीमार चचा लियाकत खान के हालचाल लेने। जब वे वहाँ पहुँचते हैं, तो उनके भूत सरीके नौकर ड्रैकुला से पता चलता है कि वो किसी काम से बाहर गए हुए हैं। इकबाल और नफीस उनके महल में रुककर उनका इंतज़ार करने लगते हैं। फिर शुरू होती है काला जादू, तंत्र-मन्त्र और रहस्य से भरी एक अति रोचक कहानी, जिसमे कि इकबाल और नफीस की सदाबहार कॉमेडी मिश्रित है।
Raise your Query?
Let's help