Hello Reader
Books in your Cart

Sunil Sahil

ये कविताएँ ‘मैंने’ नहीं लिखी हैं, ये कविताएँ मुझसे अभिव्यक्त हुई हैं, अस्तित्व ने मुझे चुना इन शब्दों, इन भावों का जरिया बनने को, माध्यम बनने को, साधन बनने को, जब मैं मिट गया तो लगा कि अस्तित्व और मुझमें संवाद हो रहा है, एक सम्बन्ध घट रहा है जिसमें ये कुछ सहज अभिव्यक्तियाँ प्रकट हुई, आप हमेशा ‘कवि’ ..
₹128 ₹150
Showing 1 to 1 of 1 (1 Pages)

Latest Books on PustakMandi

Raise your Query?
Let's help