Hello Reader
Books in your Cart

Sooraj Pocket Books

दीवारों में, किताबों में, डेस्क-बेंचों में, कॉपीयों में हथेलियों में तुमने बहुत लिखा मेरा नाम.अब मेरी बारी है, देखो ! मैंने तुम्हें लिखा है ।वो सारी बातें जो अब, सिर्फ एक याद हैं, वो सारी मुलाकातें जो अब, सिर्फ एक ख्वाब हैं..
₹96 ₹120
क़त्ल और देशद्रोह के इलज़ाम में सीक्रेट सर्विस का देशभक्त जासूस जावेद खान जेल की सलाखों के पीछे पहुँचता है. इस गुत्थी को सुलझाने निकले अमर और जॉन के सामने आती है एक ऐसी साजिश जो भारत के नक़्शे को बदलने की क्षमता रखती है. क्या थी वो साजिश? और कौन था उसका...मास्टरमाइंड? लेखक परिचय: IIT BHU से शिक्षित शु..
₹140 ₹175
ये जो यादें होती है न, जो रात में न सोने देती है न कुछ काम करने देती है। जी हाँ| मैं उन्हीं यादों की बात कर रहा हूँ। वो 'इश्क वाली यादें!' कभी तो दिल सोचता है आखिर क्यों वो जिंदगी में आया, वहीँ किसी का दिल सोचता है, आखिर क्यों अब तक वो जिंदगी में नहीं आया! ये 'वो ' जिसकी मैं बात कर रहा हूँ, ये 'इश्क..
₹96 ₹120
एक शाम चन्द्रेश मल्होत्रा अपने घर लौटा तो उसने अपनी लापता बीवी वंशिका को इंतजार करते पाया. पर चन्द्रेश था कि उसे पहचानने से इंकार करने लगा. दूसरी तरफ स्वस्थ्य मंत्री के बेटे सुमित अवस्थी के मर्डर केस में पुलिस को कोई बढ़त नहीं मिल रही थी. पर जब इस केस की तारें चन्द्रेश मल्होत्रा के केस से जुड़ीं, तो क..
₹120 ₹150
एक खूबसूरत नवयुवती की कार हादसे में मौत के कुछ समय बाद भानुप्रताप के छोटे बेटे ऋषभ की सड़क दुर्घटना में मौत हो गई. लाश परिवार को सौंप दी गई और उसका विधिवत अंतिम संस्कार कर दिया गया. पर अगले ही दिन उनके सामने जीता-जगता ऋषभ वापस आ खड़ा हुआ, जिसे इस दुर्घटना के बारे में कुछ भी पता नहीं था. वह असली ऋषभ था..
₹120 ₹150
उसका नाम शिनाया शर्मा था| जैसा खूबसूरत नाम, वैसी वो| उसकी हँसी जादू थी| खूबसूरती नशा थी| कभी नाईट क्लब की डांसर थी वो| हाईप्राइजड कॉलगर्ल थी| मगर शिनाया जानती थी- एक बार उम्र ढली, तो उसके सब मुरीद, सब एडमायरर गायब हो जाने थे| बस जवानी तक का ही सारा ज़हूरा था| हमेशा दौलतमंद बने रहने के लिये तब शिनाया ..
₹140 ₹175
प्रोफेसर कैन की लैब में एक दिन हुआ ऐसा हादसा कि प्रोफेसर कैन हो गए गायब। 14 साल गुज़रने के बाद उनके बेटे जैक को पता चला अपने पिता का ये सच! जैक ने आरंभ की अपने पिता की खोज...जो उसे ले पहुँची उसके पिता की ख़ुफ़िया लैब में, जहाँ उसे पता चलता है घड़ियों की एक अजीब दुनिया का जो है इस दुनिया से बिलकुल अलग.ख़ु..
₹72 ₹90
एक तरफ है सूर्यगढ़ का ड्रग माफिया दिलावर सिंह दूसरी तरफ मुम्बई का भाई सलीम लुहार। इनकी खूनी गैंगवार के बीच आ फंसता है अभिषेक मिश्रा नाम का एक आम शख्श। बेहद तेजी से अभिषेक जुर्म की दुनिया में सफल होता चला जाता है और एक दिन सूर्यगढ़ का ड्रग-बादशाह बन जाता है। परन्तु जावेद-अमर-जॉन और सूर्यगढ़ का एस पी गौर..
₹120 ₹150
Showing 11 to 18 of 18 (2 Pages)
Raise your Query?
Let's help