Hello Reader
Books in your Cart

As per guidelines, our shipping partners are only delivering essential items for current period. We will resume deliveries shortly. 

Kaise Chand Lafzon Men Saara Pyar Likhun

Kaise Chand Lafzon Men Saara Pyar Likhun
-15 % Out Of Stock

Advertisement

Subscribe to us!

Kaise Chand Lafzon Men Saara Pyar Likhun
Currently Unavailable
This Product is Out of Stock. We will update for the availability.
  • Stock Status: Out Of Stock
  • Publisher: Authors' Ink Publications
  • Author Name:   Dinesh Gupta;
  • ISBN-13:  9788192955537
  • Edition: 1st Edition
  • Book Language:  English
  • Available Book Formats: Paperback
No. Of Views: 2248
₹128
₹150
Reward Points: 400
"कैसे चंद लफ्ज़ों में सारा प्यार लिखूँ" एक कविता-संग्रह है, जिसमें प्यार मुहब्बत विषय पर कविता, शायरी, गीत और ग़ज़लें सम्मिलित है | About Author मध्यप्रदेश के मन्दसौर जिले में जन्मे दिनेश गुप्ता 'दिन' पेशे से सॉफ्टवेयर इंजीनियर हैं | दिनेश गुप्ता की कविताएँ, लेख, गीत और इंटरव्यू देश की कई प्रमुख पत्रिकाओं में प्रकाशित हुए हैं | शुरुवाती दिनों में कविता इनका शौक हुआ करती थी, इन दिनों जुनून है और वो लेखन को ही अपना पेशा बनाने को लेकर खासे उत्साहित हैं | इंजीनियर और कवि थोड़ा मुश्किल मिश्रण लगता है, जब दिनेश से पूछा जाता है तब वो कहते हैं: "इंजीनियरिंग मेरा पेशा है परन्तु कविता मेरा जुनून है, शब्द मेरी रगों में खून बनकर दौड़ते हैं और कविता मेरी नसों में बहती है" अपनी चेतना और अनुभूति की अभिव्यक्ति भर हैं कविता | इनकी कुछ रचनाएँ आप यहाँ देख सकते हैं ..
Pustak Details
Sold ByAuthor's Ink
AuthorDinesh Gupta
ISBN-13978-8192955537
FormatPaperback
LanguageEnglish

Reviews

Write a review

Note: HTML is not translated!
Bad Good
Captcha

Book Description

Kaise Chand Lafzon Men Saara Pyar Likhun

"कैसे चंद लफ्ज़ों में सारा प्यार लिखूँ" एक कविता-संग्रह है, जिसमें प्यार मुहब्बत विषय पर कविता, शायरी, गीत और ग़ज़लें सम्मिलित है | About Author मध्यप्रदेश के मन्दसौर जिले में जन्मे दिनेश गुप्ता 'दिन' पेशे से सॉफ्टवेयर इंजीनियर हैं | दिनेश गुप्ता की कविताएँ, लेख, गीत और इंटरव्यू देश की कई प्रमुख पत्रिकाओं में प्रकाशित हुए हैं | शुरुवाती दिनों में कविता इनका शौक हुआ करती थी, इन दिनों जुनून है और वो लेखन को ही अपना पेशा बनाने को लेकर खासे उत्साहित हैं | इंजीनियर और कवि थोड़ा मुश्किल मिश्रण लगता है, जब दिनेश से पूछा जाता है तब वो कहते हैं: "इंजीनियरिंग मेरा पेशा है परन्तु कविता मेरा जुनून है, शब्द मेरी रगों में खून बनकर दौड़ते हैं और कविता मेरी नसों में बहती है" अपनी चेतना और अनुभूति की अभिव्यक्ति भर हैं कविता | इनकी कुछ रचनाएँ आप यहाँ देख सकते हैं 
Raise your Query?
Let's help