Hello Reader
Books in your Cart

As per guidelines, our shipping partners are only delivering essential items for current period. We will resume deliveries shortly. 

Jati Hi Poochho Sadhu Ki - Hardcover

Jati Hi Poochho Sadhu Ki  -  Hardcover
-18 %

Advertisement

Subscribe to us!

Jati Hi Poochho Sadhu Ki - Hardcover
  • Stock Status: In Stock.
  • Publisher: Vani Prakashan
  • ISBN-13:  9789387409231
  • Total Pages:  116
  • Edition: 1
  • Book Language:  Hindi
  • Available Book Formats: Hardcover
  • Year:  2019
No. Of Views: 155
₹245
₹299
Reward Points: 698
विजय तेंडुलकर के नाटक सामाजिक जड़ता और विकृतियों पर तीखा प्रहार करते हैं। यह नाटक हमारे समाज में सदियों से चली आ रही जाति व्यवस्था और उसके गहन दुष्प्रभाव पर करारा व्यंय करता है। यह विसंगति आज़ादी के इतने सालों बाद भी हमारे समाज में उपस्थित है। शिक्षा व्यवस्था भी मनुष्यों के मन में विभेद उत्पन्न करने वाली इन बेड़ियों को तोड़ पाने में असफल रही है। यह नाटक हमारी शिक्षा व्यवस्था की उस कमी की ओर भी संकेत करता है जो डिग्रीधारी युवा तो पैदा कर देती है, पर वह समाज की उन्नति के लिए सही अर्थों में अपना कोई रचनात्मक योगदान देने में अक्षम ही साबित होती है। ‘नो वेकेंसी' के इस भयावह समय में शिक्षा व्यवस्था ने बेरोजगार युवाओं की फौज खड़ी कर दी है। यह नाटक उसी प्रश्न से रूबरू कराता है और इस विकट समस्या पर विचार करने को बाध्य करता है।..
Pustak Details
Sold ByVani Prakashan
AuthorVijay Tendlukar Translated by Marathi to Hindi by Dr. Sunil Devdhar
ISBN-139789387409231
Edition1
FormatHardcover
LanguageHindi
Pages116
Publication Year2019
CategoryPlay

Reviews

Write a review

Note: HTML is not translated!
Bad Good
Captcha

Book Description

Jati Hi Poochho Sadhu Ki - Hardcover

विजय तेंडुलकर के नाटक सामाजिक जड़ता और विकृतियों पर तीखा प्रहार करते हैं। यह नाटक हमारे समाज में सदियों से चली आ रही जाति व्यवस्था और उसके गहन दुष्प्रभाव पर करारा व्यंय करता है। यह विसंगति आज़ादी के इतने सालों बाद भी हमारे समाज में उपस्थित है। शिक्षा व्यवस्था भी मनुष्यों के मन में विभेद उत्पन्न करने वाली इन बेड़ियों को तोड़ पाने में असफल रही है। यह नाटक हमारी शिक्षा व्यवस्था की उस कमी की ओर भी संकेत करता है जो डिग्रीधारी युवा तो पैदा कर देती है, पर वह समाज की उन्नति के लिए सही अर्थों में अपना कोई रचनात्मक योगदान देने में अक्षम ही साबित होती है। ‘नो वेकेंसी' के इस भयावह समय में शिक्षा व्यवस्था ने बेरोजगार युवाओं की फौज खड़ी कर दी है। यह नाटक उसी प्रश्न से रूबरू कराता है और इस विकट समस्या पर विचार करने को बाध्य करता है।
Raise your Query?
Let's help