Hello Reader
Books in your Cart

Devlok Devdutt Pattanaik Ke Sang (Hindi)

Devlok Devdutt Pattanaik Ke Sang (Hindi)
-25 %

Advertisement

Subscribe to us!

Devlok Devdutt Pattanaik Ke Sang (Hindi)
  • Stock Status: In Stock.
  • Publisher: Penguin Books Limited
  • Author Name:   Devdutt Pattanaik;
  • ISBN-13:  9780143427988
  • Total Pages:  210 Pages
  • Edition: 1st Edition
  • Book Language:  Hindi
  • Available Book Formats: Paperback
  • Year:  2016
  • Publication Date:  2016-09-28
No. Of Views: 3277
₹131
₹175
Reward Points: 450
EPIC चैनल के बेहद लोकप्रिय टेलीविजष्न कार्यक्रम के पहले सीजष्न पर आधारित पौराणिक कथाओं की अद्भुत दुनिया की सैर करें, देवदत्त पटनायक के संग किताब के बारे में:• क्यों लगभग सारे मंदिर, विष्णु, शिव या देवियों को समर्पित होते हैं, पर ब्रह्म या इन्द्र को नहीं ?• असुरों, राक्षसों, यक्षों और पिशाचों में क्या अंतर होता है ?• पाण्डव स्वर्ग जाने के बजाय नर्क कैसे पहुँच गए ?कई महीनों से म्च्प्ब् चैनल का अभूतपूर्व कार्यक्रमDevlok with Devdutt Pattanaikअनगिनत दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर चुका है । अब प्रस्तुत है यह किताब जो इस लोकप्रिय कार्यक्रम के पहले सीजष्न पर आधारित है और जो आपको अनगिनत कहानियों, चिह्नों और अनुष्ठानों के माध्यम से एक ऐसी अद्भुत यात्रा पर ले जायेगी जो हिन्दु सभ्यता की नींव है ।तो तैयार हो जाइये आश्चर्यचकित और रोमांचित होने के लिये । देवदत्त सुनाते हैं ऐसी मंत्रमुग्ध कर देने वाली कहानियाँ..
Pustak Details
Sold ByPenguin Books Limited
AuthorDevdutt Pattanaik
ISBN-139780143427988
FormatPaperback
LanguageHindi
Pages210 Pages
Publication Date (YYYY-MM-DD)2016-09-28
Publication Year2016

Reviews

Write a review

Note: HTML is not translated!
Bad Good
Captcha

Book Description

Devlok Devdutt Pattanaik Ke Sang (Hindi)

EPIC चैनल के बेहद लोकप्रिय टेलीविजष्न कार्यक्रम के पहले सीजष्न पर आधारित पौराणिक कथाओं की अद्भुत दुनिया की सैर करें, देवदत्त पटनायक के संग किताब के बारे में:


• क्यों लगभग सारे मंदिर, विष्णु, शिव या देवियों को समर्पित होते हैं, पर ब्रह्म या इन्द्र को नहीं ?

• असुरों, राक्षसों, यक्षों और पिशाचों में क्या अंतर होता है ?

• पाण्डव स्वर्ग जाने के बजाय नर्क कैसे पहुँच गए ?


कई महीनों से म्च्प्ब् चैनल का अभूतपूर्व कार्यक्रम

Devlok with Devdutt Pattanaik

अनगिनत दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर चुका है । अब प्रस्तुत है 

यह किताब जो इस लोकप्रिय कार्यक्रम के पहले सीजष्न पर आधारित है और जो आपको अनगिनत कहानियों, चिह्नों और अनुष्ठानों के माध्यम से एक ऐसी अद्भुत यात्रा पर ले जायेगी जो हिन्दु सभ्यता की नींव है ।


तो तैयार हो जाइये आश्चर्यचकित और रोमांचित होने के लिये । देवदत्त सुनाते हैं ऐसी मंत्रमुग्ध कर देने वाली कहानियाँ देवी, देवताओं, अवतारों और असुरों की, कि आपको लगेगा आपको इनके बारे में पता नहीं था । 


जानिये हिंदु विचारधारा की सुक्ष्मताओं को जिनसे वे बताते हैं मिथक की उत्पत्ति और अर्थ के बारे में । वे यह भी बताते हैं कि क्यों हम समय के रेखाकार होने पर विश्वास नहीं करते और ये मानते हैं कि समय चक्रीय होता है ।

यह किताब हमेशा मोहने वालो हिंदु मिथकों को जानने के लिए एक उत्तम प्रस्तुति है ।


About the Author

देवदत्त पटनायक ने डॉक्टरी की शिक्षा पाई है और वे पच्चीस से भी ज्ष्यादा किताबें और 500 लेख, नए दौर में मिथक की प्रासंगिकता पर लिख चुके हैं । अधिक जानकारी के लिए devdutt.com पर जायें ।



Raise your Query?
Let's help