Hello Reader
Books in your Cart

बिजली का बदलता परिदृश्य

बिजली का बदलता परिदृश्य
-15 %

Advertisement

Subscribe to us!

बिजली का बदलता परिदृश्य
No. Of Views: 5290
₹128
₹150
Reward Points: 400
बिजली का बदलता परिदृश्यबिजली का एक बटन दबाते ही हमारी दुनिया बदल जाती है. अन्धेरा दूर हो जाता है.ज़रूरत के मुताबिक या तो गर्मी छू मंतर हो जाती है या ठण्ड अपना दामन समेट लेती है.बिजली हमारे जीवन के लिए किसी सौगात से कम नहीं है.लेकिन इस वैज्ञानिक सौगात के बारे में अभी तक हिंदी में बहुत ज़्यादा  जानकारी उपलब्ध नहीं थी.जबलपुर विद्युत  वितरण कंपनी के अधीक्षण यंत्री श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ने आम बिजली उपभोक्ता के लिये सरल भाषा में गूढ़ तकनीकी विषयो को सहजता से इस किताब में प्रस्तुत किया है . वे कहते है कि बिजली के क्षेत्र में अनुसंधान की व्यापक संभावनाएं और आवश्यकता है.उनकी ये किताब युवाओं को बिजली के क्षेत्र में अनुसंधान के प्रति रूचि जगाएगी. बिजली के उत्पादन, उपयोग एवं बचत जैसे विविध विषयों पर हिन्दी में तकनीकी आलेख ‘बदलता विद्युत परिदृश्य में  हैं । उल्लेखनीय है कि बिजली से संबंधित विषयों को ..
Pustak Details
AuthorVivek Ranjan Shrivastav
ISBN-139789380608198
FormatPaperback
LanguageHindi

Reviews

Write a review

Note: HTML is not translated!
Bad Good
Captcha

Book Description

बिजली का बदलता परिदृश्य

बिजली का एक बटन दबाते ही हमारी दुनिया बदल जाती है. अन्धेरा दूर हो जाता है.ज़रूरत के मुताबिक या तो गर्मी छू मंतर हो जाती है या ठण्ड अपना दामन समेट लेती है.बिजली हमारे जीवन के लिए किसी सौगात से कम नहीं है.लेकिन इस वैज्ञानिक सौगात के बारे में अभी तक हिंदी में बहुत ज़्यादा  जानकारी उपलब्ध नहीं थी.जबलपुर विद्युत  वितरण कंपनी के अधीक्षण यंत्री श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ने आम बिजली उपभोक्ता के लिये सरल भाषा में गूढ़ तकनीकी विषयो को सहजता से इस किताब में प्रस्तुत किया है . वे कहते है कि बिजली के क्षेत्र में अनुसंधान की व्यापक संभावनाएं और आवश्यकता है.उनकी ये किताब युवाओं को बिजली के क्षेत्र में अनुसंधान के प्रति रूचि जगाएगी. बिजली के उत्पादन, उपयोग एवं बचत जैसे विविध विषयों पर हिन्दी में तकनीकी आलेख ‘बदलता विद्युत परिदृश्य में  हैं । उल्लेखनीय है कि बिजली से संबंधित विषयों को समझने में छात्रों एवं विद्युत उपभोक्ताओं की गहन रूचि होती है, किन्तु हिन्दी में ये जानकारियां उपलब्ध न होने के कारण आम आदमी की जिज्ञासा शान्त नही हो पाती .  इस दृष्टि से यह पुस्तक सभी हिन्दी पाठको के लिए उपयोगी है ।

 

Raise your Query?
Let's help