Hello Reader
Books in your Cart

Bhookh aur Bhoj ke Beech Vivekananda - Paperback, Hindi

Bhookh aur Bhoj ke Beech Vivekananda - Paperback, Hindi
-15 %

Advertisement

Subscribe to us!

Bhookh aur Bhoj ke Beech Vivekananda - Paperback, Hindi
  • ISBN: 9789353228583
  • Total Pages: 256
  • Edition: 1
  • Book Language: Hindi
  • Available Book Formats:Paperback
  • Year: 2019
  • Publication Date: 2020-01-01
  • Stock Status: In Stock
  • Publisher/Manufacturer: Prabhat Prakashan
  • ISBN-13: 9789353228583

No. Of Views: 258
₹255
₹300
Reward Points: 700
कभी राजभवन में सोने की थाली में राजसी भोजन, कभी झोंपड़ी में गरीबों का भोजन, कभी भूखे पेट, कभी सुनसान जंगल में आधे पेट खाकर भ्रमण करना स्वामी विवेकानंद के जीवन के अंतिम दो दशकों की आश्चर्यजनक जीवनगाथा। पिछले लगभग डेढ़ सौ वर्षों से कई देशों में स्वामीजी के पाककला प्रेम की चर्चा के साथ महासागर के उस पार अमेरिका में वेद, वेदांत के साथ-साथ बिरयानी-पुलाव-खिचड़ी से संबंधित कई अनजानी कहानियाँ प्रचलित हैं। भारतीय पाककला के प्रचार में सर्वत्यागी संन्यासी के असीम उत्साह वर्तमान के समाजतत्त्वविद् के लिए आश्चर्य की बात है, फिर भी पाकशास्त्री महाराज विवेकानंद को लेकर कोई संपूर्ण पुस्तक किसी भी भाषा में क्यों नहीं लिखी गई है, यह समझ से परे है। इस पुस्तक में स्वामी विवेकानंद के आहार के विषय में हजारों लोगों के मुँह से कही गई अनमोल बातों पर खोजी लेखक शंकर की अद्भुत प्रस्तुति है।..
Pustak Details
Sold ByPrabhat Prakashan
AuthorSankar
ISBN-139789353228583
Edition1
FormatPaperback
LanguageHindi
Pages256
Publication Date2020-01-01
Publication Year2019
CategoryBooks, Biographies, Diaries & True Accounts, Biographies & Autobiographies

Reviews

Write a review

Note: HTML is not translated!
Bad Good
Captcha

Book Description

कभी राजभवन में सोने की थाली में राजसी भोजन, कभी झोंपड़ी में गरीबों का भोजन, कभी भूखे पेट, कभी सुनसान जंगल में आधे पेट खाकर भ्रमण करना स्वामी विवेकानंद के जीवन के अंतिम दो दशकों की आश्चर्यजनक जीवनगाथा। पिछले लगभग डेढ़ सौ वर्षों से कई देशों में स्वामीजी के पाककला प्रेम की चर्चा के साथ महासागर के उस पार अमेरिका में वेद, वेदांत के साथ-साथ बिरयानी-पुलाव-खिचड़ी से संबंधित कई अनजानी कहानियाँ प्रचलित हैं। भारतीय पाककला के प्रचार में सर्वत्यागी संन्यासी के असीम उत्साह वर्तमान के समाजतत्त्वविद् के लिए आश्चर्य की बात है, फिर भी पाकशास्त्री महाराज विवेकानंद को लेकर कोई संपूर्ण पुस्तक किसी भी भाषा में क्यों नहीं लिखी गई है, यह समझ से परे है। इस पुस्तक में स्वामी विवेकानंद के आहार के विषय में हजारों लोगों के मुँह से कही गई अनमोल बातों पर खोजी लेखक शंकर की अद्भुत प्रस्तुति है।
Raise your Query?
Let's help