Warning: unlink(/home/rsingh64/public_html/storage/cache/cache.catalog.language.1566225048): No such file or directory in /home/rsingh64/public_html/system/library/cache/file.php on line 68Warning: Cannot modify header information - headers already sent by (output started at /home/rsingh64/public_html/system/framework.php:42) in /home/rsingh64/public_html/catalog/controller/startup/startup.php on line 99Warning: Cannot modify header information - headers already sent by (output started at /home/rsingh64/public_html/system/framework.php:42) in /home/rsingh64/public_html/catalog/controller/startup/startup.php on line 157 Buy Accident-ek rahasya katha By Anyrag Kumar Genius Online at low price in India At Pustakamandi.com, Paperback,
Hello Reader
Books in your Cart

Accident-ek rahasya katha

Accident-ek rahasya katha
-20 %
Accident-ek rahasya katha
  • ISBN: 9788193584514
  • Total Pages: 210
  • Edition: 1
  • Available Book Formats:Paperback
  • Year: 2018
  • Publication Date: 2018-01-28
  • Brand: Sooraj Pocket Books
Product Views: 397
  • Sold by Sooraj Pocket Books
  • Seller Rating:    0 Reviews
  • Contact Seller
  • ₹120
    ₹150
    Reward Points: 400
    एक खूबसूरत नवयुवती की कार हादसे में मौत के कुछ समय बाद भानुप्रताप के छोटे बेटे ऋषभ की सड़क दुर्घटना में मौत हो गई. लाश परिवार को सौंप दी गई और उसका विधिवत अंतिम संस्कार कर दिया गया. पर अगले ही दिन उनके सामने जीता-जगता ऋषभ वापस आ खड़ा हुआ, जिसे इस दुर्घटना के बारे में कुछ भी पता नहीं था. वह असली ऋषभ था या एक बहरूपिया, ये गुत्थी तेज-तर्रार पुलिस इंस्पेक्टर दुर्गेश से भी नहीं सुलझ पाई. एक ऐसी अनोखी कहानी, जिसका रहस्य अंत पढ़े बगैर नहीं जाना जा सकता. ..

    Book Details

    Pustak Details
    Sold By Sooraj Pocket Books
    Author Anyrag Kumar Genius
    ISBN-13 9788193584514
    Format Paperback
    Pages 210
    Publication Date 2018-01-28
    Publication Year 2018
    Category Murder Mystrey

    Reviews

    Ask for Review

    Write a book review

    Book Description

    एक खूबसूरत नवयुवती की कार हादसे में मौत के कुछ समय बाद भानुप्रताप के छोटे बेटे ऋषभ की सड़क दुर्घटना में मौत हो गई. लाश परिवार को सौंप दी गई और उसका विधिवत अंतिम संस्कार कर दिया गया. पर अगले ही दिन उनके सामने जीता-जगता ऋषभ वापस आ खड़ा हुआ, जिसे इस दुर्घटना के बारे में कुछ भी पता नहीं था. वह असली ऋषभ था या एक बहरूपिया, ये गुत्थी तेज-तर्रार पुलिस इंस्पेक्टर दुर्गेश से भी नहीं सुलझ पाई. एक ऐसी अनोखी कहानी, जिसका रहस्य अंत पढ़े बगैर नहीं जाना जा सकता. 

    Latest Books on PustakMandi

    Seller Featured Products