Menu
Books in your Cart

अन्तर्मन से

अन्तर्मन से
अन्तर्मन से
भले ही  रिश्तों से उत्पन्न हुयी  सम्बन्धो की एक लम्बी श्रंखला हम सब को केवल एक जन्म तक ही जोड़कर रखने मे सफल होती हुयी दिखाई देती हो। लेकिन  सच यह  है कि इन्हीं सम्बंधो से अस्तित्व मे आये हमारे समाजिक बंधन हमारी सभ्यता और संस्कृति को इतनी  अधिक ऊर्जा तो प्रदान कर  देते हैं कि वह स्वयं से ही एक लम्बे काल खंड तक अपनी गरिमामयी यात्रा करने मे  सक्षम हो जाती है ।..
  • Stock: In Stock
₹200

Reviews

Ask for Review

Write a book review

Book Description

भले ही  रिश्तों से उत्पन्न हुयी  सम्बन्धो की एक लम्बी श्रंखला हम सब को केवल एक जन्म तक ही जोड़कर रखने मे सफल होती हुयी दिखाई देती हो। लेकिन  सच यह  है कि इन्हीं सम्बंधो से अस्तित्व मे आये हमारे समाजिक बंधन हमारी सभ्यता और संस्कृति को इतनी  अधिक ऊर्जा तो प्रदान कर  देते हैं कि वह स्वयं से ही एक लम्बे काल खंड तक अपनी गरिमामयी यात्रा करने मे  सक्षम हो जाती है